सब  ठीक  है !  ( हास्य -व्यंग्य कविता)

सब ठीक है ! ( हास्य -व्यंग्य कविता)

कविता, राजनीति, व्यंग्य
                                           देश   की  नय्या  डोल  रही  है ,                                             अराजकता  सर चढ़  के बोल रही है ,                                           महंगाई  ने डाला गले में फंदा,                                           भरष्टाचार ,काला  बाजारी ,घुस खोरी ,                                            बईमानी  फल फुल रही है।                          …
Read More