समझौता

समझौता

कहानी
समझौता अभी तो सुबह के ८-३० हुए थे। जल्दी तैयार होकर नित्या एक्स्ट्रा क्लास के लिए अपनी कार लेकर निकल ही रही थी कि रीमा आंटी और उनकी बड़ी बहूॅं सब्जी ले रहे थे ,उनको 'गुड़ मोर्निग' कहकर बातें करने खड़ी रही। ' क्यों आज जल्दी जा रही हो? " हां, ट्राफीक की वजह से पहूॅंचने में शायद देर हो जाये, एक्स्ट्रा क्लास ऐटेन्ड करनी है। ' 'अब ओर कितना पढोगी? शादी करनी है कि नहीं?' कहेते हूऐ रीमा आंटी हँसते देख रही थी। और हॅंसकर बाय कहते हूऐ वापस आगे जाते हुऐ सोचने लगी, लडकियों के बारे में सबको शादी की ही फिक्र लगी रहेगी है, मम्मी भी सब की बातें सुनकर यही फिक्र में रहती है कि अच्छे लड़के हाथ से निकल जायेंगे, नित्या को पता था कि…
Read More
अन्तोन चेख़व की कहानी – ग्रीषा: मूल रूसी से अनुवाद- अनिल जनविजय

अन्तोन चेख़व की कहानी – ग्रीषा: मूल रूसी से अनुवाद- अनिल जनविजय

कहानी
दो साल और सात महीने पहले पैदा हुआ ग्रीषा नाम का एक छोटा और मोटा-सा लड़का अपनी आया के साथ बाहर गली में घूम रहा है। उसके गले में मफ़लर है, सिर पर बड़ी-सी टोपी और पैरों में गर्म जूते। लेकिन इन कपड़ों में उसका दम घुट रहा है और उसे बेहद गर्मी लग रही है। सूरज बड़ी तेजी से चमक रहा है और उसकी चमक सीधे आँखों में चुभ रही है। ग्रीषा क़दम बढ़ाता चला जा रहा है। किसी भी नई चीज़ को देखकर वह उसकी तरफ़ बढ़ता है और फिर बेहद अचरज से भर जाता है। ग्रीषा ने बाहर की दुनिया में पहली बार क़दम रखा है। अभी तक उसकी दुनिया सिर्फ़ चार कोनों वाले एक कमरे तक ही सीमित थी, जहाँ एक कोने में उसका खटोला पड़ा…
Read More
[कहानी] ‘दूध’: भूमिका द्विवेदी अश्क

[कहानी] ‘दूध’: भूमिका द्विवेदी अश्क

कहानी
सोनू की दहाड़ पूरे वातावरण में चीत्कार जैसी गूंज रही थी. रात बहोत गहरा गयी थी, इसलिये भी बच्चे का चिल्लाना मानो दूर-दूर के सन्नाटे को तोड़ रहा था. उसकी मां लछमी, होगी यही कोई तीस-पैंतीस साल की मरियल सी औरत, उस नन्हें से मांस के कुपोषित लोथड़े को अपनी सूखी और सख़्त छाती से चिपकाये चुप कराये जा रही थी. सोनू का तेज़ बुखार कोई नया समाचार नहीं था. उसका भूख से बदहाल होकर कुलबुलाना भी बेहद पिटा हुआ यथार्थ था. लेकिन आज उसकी चींखों में एक नई धार ज़रूर थी. नया जोश था. बारिश का मौसम यूं तो बम्बई में ज़्यादातर एक-सा ही रहता है, ना कभी नया होता है और ना ही पुराना पड़ता है. अगर ये तेज़ बारिश किसी को नई लगती है तो वो प्राय:…
Read More