दूर नहीं

दूर नहीं

लघुकथा
    मालिनी शाम के भोजन की तैयारी करके बाल्कनी में बैठकर बाजू के पैड पर बने घौंसले में से उड़ाउड़ कर रहे पक्षी के बच्चे देख मुस्कुरा उठी।फिर सोचने लगी,ये तो प्रकृति का नियम है बड़े होते ही बच्चे उड़कर अपना नया जहॉं बसा लेते है।लेकिन, उसका घौसला तो छोटा है इसलिए ....यहाँ तो इतना बड़ा घर है ,बेटा पढाई के बाद अमरीका में ही सेट हो गया और बेटी ससुराल में है। डोरबेल की आवाज़ आयी और जल्दी से दरवाज़ा खोलते ही सामने उसके पति सोमन को एक हाथ मे बैग और मिठाई लिए मुस्कुराता हुआ खड़ा देख फिर पुलकित हो गयी। "देखो,मेरा रिपोर्ट क्लियर है तो ये पिस्ता डायमंड केक आज जमकर खानेवाला हुँ,तुम्हारी ये आयुर्वेदिक दवाइयाँ भी लाया हुँ" थोड़ी देर दोनों बातें करते बैठे रहे,…
Read More
अनुभूति

अनुभूति

कविता
अस्तित्व... मैंने जब भी सूना है की ईश्वर है, मन की आशाओ ने कुछ और जिया है, हर एक इंसान में महसूस किया है किसी अनजान अस्तित्वको, बातो में निकलती दुवाओ में, कभी माँ की हथेलियों में, पापा के मश्वरो में, भाई के राखी बंधे हाथो मे, बहन की जप्पियो में, भाभी की बातो में दोस्तों की महफ़िलो में, प्यारभरे उन लम्हो में किसी की मुस्कानों में, किसी की आँखों के दर्द में... कुदरत की बनायी सभी रचनाये कर रही हे प्रेरित, उस अस्तित्व की उष्मा को अपने अंदर सहेजकर एक ओर नया जीवन जीने की तमन्ना को जीवित कर लेती हूँँ। -मनीषा 'जोबन'
Read More
समझौता

समझौता

कहानी
समझौता अभी तो सुबह के ८-३० हुए थे। जल्दी तैयार होकर नित्या एक्स्ट्रा क्लास के लिए अपनी कार लेकर निकल ही रही थी कि रीमा आंटी और उनकी बड़ी बहूॅं सब्जी ले रहे थे ,उनको 'गुड़ मोर्निग' कहकर बातें करने खड़ी रही। ' क्यों आज जल्दी जा रही हो? " हां, ट्राफीक की वजह से पहूॅंचने में शायद देर हो जाये, एक्स्ट्रा क्लास ऐटेन्ड करनी है। ' 'अब ओर कितना पढोगी? शादी करनी है कि नहीं?' कहेते हूऐ रीमा आंटी हँसते देख रही थी। और हॅंसकर बाय कहते हूऐ वापस आगे जाते हुऐ सोचने लगी, लडकियों के बारे में सबको शादी की ही फिक्र लगी रहेगी है, मम्मी भी सब की बातें सुनकर यही फिक्र में रहती है कि अच्छे लड़के हाथ से निकल जायेंगे, नित्या को पता था कि…
Read More