भारतीय ज्ञानपीठ न्यास द्वारा ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ भारतीय साहित्य के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार है। इसमें पुरस्कार स्वरूप 11 लाख रुपये, प्रशस्तिपत्र और वाग्देवी की कांस्य प्रतिमा दी जाती है। प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार 1965 में मलयालम लेखक जी शंकर कुरुप को प्रदान किया गया था। जिसके उपरान्त अब तक 54 लेखकों को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है,जिसकी सूची निम्न प्रकार से है–

वर्ष – ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित साहित्यकार

1965 (प्रथम)– जी शंकर कुरुप (मलयालम)

1966 (द्वितीय)– ताराशंकर बंधोपाध्याय (बांग्ला)

1967 (तृतीय)– (1) के.वी. पुत्तपा (कन्नड़) एवं (2) उमाशंकर जोशी (गुजराती)

1968 (चतु​र्थ)– सुमित्रानंदन पंत (हिन्दी)

1969 (5वाँ)– फ़िराक गोरखपुरी (उर्दू)

1970 (6वाँ)– विश्वनाथ सत्यनारायण (तेलुगु)

1971 (7वाँ)– विष्णु डे (बांग्ला)

1972 (8वाँ)– रामधारी सिंह दिनकर (हिन्दी)

1973 (9वाँ)– (1) दत्तात्रेय रामचंद्र बेन्द्रे (कन्नड़) एवं (2) गोपीनाथ महान्ती (ओड़िया)

1974 (10वाँ)– विष्णु सखा खांडेकर (मराठी)

1975 (11वाँ)– पी.वी. अकिलानंदम (तमिल)

1976 (12वाँ)– आशापूर्णा देवी (बांग्ला)

1977 (13वाँ)– के. शिवराम कारंत (कन्नड़)

1978 (14वाँ)– एच. एस. अज्ञेय (हिन्दी)

1979 (15वाँ)– बिरेन्द्र कुमार भट्टाचार्य (असमिया)

1980 (16वाँ)– एस.के. पोट्टेकट  (मलयालम)

1981 (17वाँ)– अमृता प्रीतम (पंजाबी)

1982 (18वाँ)– महादेवी वर्मा (हिन्दी)

1983 (19वाँ)– मस्ती वेंकटेश अयंगर (कन्नड़)

1984 (20वाँ)– तक्षी शिवशंकरा पिल्लई (मलयालम)

1985 (21वाँ)– पन्नालाल पटेल (गुजराती)

1986 (22वाँ)– सच्चिदानंद राउतराय (ओड़िया)

1987 (23वाँ)– विष्णु वामन शिरवाडकर कुसुमाग्रज (मराठी)

1988 (24वाँ)– डॉ. सी नारायण रेड्डी (तेलुगु)

1989 (25वाँ)– कुर्तुल एन. हैदर (उर्दू)

1990 (26वाँ)– वी.के.गोकक (कन्नड़)

1991 (27वाँ)– सुभाष मुखोपाध्याय (बांग्ला)

1992 (28वाँ)– नरेश मेहता (हिन्दी)

1993 (29वाँ)– सीताकांत महापात्र (ओड़िया)

1994 (30वाँ)– यू.आर. अनंतमूर्ति (कन्नड़)

1995 (31वाँ)– एम.टी. वासुदेव नायर (मलयालम)

1996 (32वाँ)– महाश्वेता देवी (बांग्ला)

1997 (33वाँ)– अली सरदार जाफरी (उर्दू)

1998 (34वाँ)– गिरीश कर्नाड (कन्नड़)

1999 (35वाँ)– (1) निर्मल वर्मा (हिन्दी) एवं (2) गुरदयाल सिंह (पंजाबी)

2000 (36वाँ)– इंदिरा गोस्वामी (असमिया)

2001 (37वाँ)– राजेन्द्र केशवलाल शाह (गुजराती)

2002 (38वाँ)– दण्डपाणी जयकान्तन (तमिल)

2003 (39वाँ)– विंदा करंदीकर (मराठी)

2004 (40वाँ)– रहमान राही (कश्मीरी)

2005 (41वाँ)– कुँवर नारायण (हिन्दी)

2006 (42वाँ)– (1) रवीन्द्र केलकर (कोंकणी) एवं (2) सत्यव्रत शास्त्री (संस्कृत)

2007 (43वाँ)– ओ.एन.वी. कुरुप (मलयालम)

2008 (44वाँ)– अखलाक मुहम्मद खान शहरयार (उर्दू)

2009 (45वाँ)– अमरकान्त व श्रीलाल शुक्ल (हिन्दी)

2010 (46वाँ)– चन्द्रशेखर कम्बार (कन्नड)

2011 (47वाँ)– प्रतिभा राय (ओड़िया)

2012 (48वाँ)– रावुरी भारद्वाज (तेलुगू)

2013 (49वाँ)– केदारनाथ सिंह (दोनों हिन्दी)

2014 (50वाँ)– भालचन्द्र नेमाड़े (मराठी)

 

2014 (51वाँ)– रघुवीर चौधरी (गुजराती)

साहित्य अकादमी पुरस्कार 

सन् 1954 में अपनी स्थापना के समय से ही साहित्य अकादेमी प्रतिवर्ष अपने द्वारा मान्यता प्रदत्त भारत की प्रमुख भाषाओं में से प्रत्येक में प्रकाशित सर्वोत्कृष्ट साहित्यिक कृति को पुरस्कार प्रदान करती है। पुरस्कार की स्थापना के समय पुरस्कार राशि 5,000/- रुपए थी, जो सन् 1983 में बढ़ाकर 10,000/- रुपए कर दी गई, फिर सन् 1988 में बढ़ाकर इसे 25,000/- रुपए कर दिया गया। सन् 2001 से यह राशि 40,000/- रुपए की गई थी। सन् 2003 से यह राशि 50,000/- रुपए की गई तथा सन् 2010 से यह राशि 1,00,000/- रुपए कर दी गई है। पहली बार ये पुरस्कार सन्1955 में दिए गए

हिंदी

वर्ष पुस्‍तक लेखक
2015 आग की हँसी (कविता) रामदरश मिश्र
2014 विनायक (उपन्‍यास) रमेशचन्‍द्र शाह
2013 मिलजुल मन (उपन्‍यास) मृदुला गर्ग
2012 पत्थर फेंक रहा हूँ (कविता–संग्रह) चंद्रकांत देवताले
2011 रेहन पर रग्घू (उपन्यास) काशीनाथ सिंह
2010 मोहन दास (लघु उपन्यास) उदय प्रकाश
2009 हवा में हस्ताक्षर (कविता–संग्रह) कैलाश वाजपेयी
2008 कोहरे में कैद रंग (उपन्यास) गोविन्द मिश्र
2007 इन्हीं हथियारों से (उपन्यास) अमरकान्त
2006 संशयात्मा (कविता–संग्रह) ज्ञानेन्द्रपति
2005 क्याप (उपन्यास) मनोहर श्याम जोशी
2004 दुश्चक्र में स्रष्टा (कविता–संग्रह) वीरेन डंगवाल
2003 कितने पाकिस्तान (उपन्यास) कमलेश्वर
2002 दो पंक्तियों के बीच (कविता–संग्रह) राजेश जोशी
2001 कलि–कथा : वाया बाइपास (उपन्यास) अलका सरावगी
2000 हम जो देखते हैं (कविता–संग्रह) मंगलेश डबराल
1999 दीवार में एक खिड़की रहती थी (उपन्यास) विनोद कुमार शुक्ल
1998 नए इलाक़े में (कविता–संग्रह) अरुण कमल
1997 अनुभव के आकाश में चाँद (कविता–संग्रह) लीलाधर जगूड़ी
1996 मुझे चाँद चाहिए (उपन्यास) सुरेन्द्र वर्मा
1995 कोई दूसरा नहीं (कविता–संग्रह) कुँवर नारायण
1994 कहीं नहीं वहीं (कविता–संग्रह) अशोक वाजपेयी
1993 अर्द्धनारीश्वर (उपन्यास) विष्णु प्रभाकर
1992 ढाई घर (उपन्यास) गिरिराज किशोर
1991 मैं वक़्त के हूँ सामने (कविता–संग्रह) गिरिजाकुमार माथुर
1990 नीला चाँद (उपन्यास) शिवप्रसाद सिंह
1989 अकाल में सारस (कविता–संग्रह) केदारनाथ सिंह
1988 अरण्या (कविता–संग्रह) नरेश मेहता
1987 मगध (कविता–संग्रह) *श्रीकांत वर्मा
1986 अपूर्वा (कविता–संग्रह) केदारनाथ अग्रवाल
1985 कव्वे और काला पानी (कहानी–संग्रह) निर्मल वर्मा
1984 लोग भूल गए हैं (कविता–संग्रह) रघुवीर सहाय
1983 खूँटियों पर टँगे लोग (कविता–संग्रह) *सर्वेश्वरदयाल सक्सेना
1982 विकलांग श्रद्धा का दौर (व्यंग्य) हरिशंकर परसाई
1981 ताप के ताये हुए दिन (कविता–संग्रह) त्रिलोचन
1980 जिन्देगीनामा–जिन्दाय रुख़ (उपन्यास) कृष्णा सोबती
1979 कल सुनना मुझे (कविता–संग्रह) *धूमिल
1978 उतना वह सूरज है (कविता–संग्रह) *भारत भूषण अग्रवाल
1977 चुका भी हूँ नहीं मैं (कविता–संग्रह) शमशेर बहादुर सिंह
1976 मेरी तेरी उसकी बात (उपन्यास) यशपाल
1975 तमस (उपन्यास) भीष्म साहनी
1974 मिट्टी की बारात (कविता–संग्रह) शिवमंगल सिंह ‘सुमन’
1973 आलोक पर्व (निबंध–संग्रह) हज़ारीप्रसाद द्विवेदी
1972 बुनी हुई रस्सी (कविता–संग्रह) भवानीप्रसाद मिश्र
1971 कविता के नए प्रतिमान (समालोचना) नामवर सिंह
1970 निराला की साहित्य साधना (जीवनी) रामविलास शर्मा
1969 राग दरबारी (उपन्यास) श्रीलाल शुक्ल
1968 दो चट्टानें (कविता–संग्रह) हरिवंश राय ‘बच्चन’
1967 अमृत और विष (उपन्यास) अमृतलाल नागर
1966 मुक्तिबोध (उपन्यास) जैनेन्द्र कुमार
1965 रस–सिद्धांत (काव्यशास्त्र) नगेन्द्र
1964 आँगन के पार द्वार (कविता–संग्रह) अज्ञेय (स.ही. वात्स्यायन)
1963 प्रेमचंद : क़लम का सिपाही (जीवनी) अमृत राय
1961 भूले बिसरे चित्र (उपन्यास) भगवतीचरण वर्मा
1960 कला और बूढ़ा चाँद (कविता–संग्रह) सुमित्रानंदन पंत
1959 संस्कृति के चार अध्याय (भारतीय संस्कृति का सर्वेक्षण) रामधारी सिंह ‘दिनकर’
1958 मध्य एशिया का इतिहास (इतिहास) राहुल सांकृत्यायन
1957 बुद्ध धर्म–दर्शन (दर्शन) *आचार्य नरेन्द्रदेव
1956 पद्मावत : संजीवनी व्याख्या (टीका) वासुदेवशरण अग्रवाल
1955 हिमतरंगिनी (कविता–संग्रह) माखनलाल चतुर्वेदी