मत   पूछो  कितने  ज़ख्म   खाए  हुए   हैं ,

                     हम  तो यारो  हालात   के सताए  हुए  हैं  .

                     ज़बीं  पर   क्या   है   लिखा ,नहीं   जानते ,

                    हम  तकदीर  को  अपनी  कहाँ  समझ पाए हैं.  ?

                    जिंदगी   ने  दिए  हमें  मौके   बे शुमार  मगर   ,

                   मंजिल -ऐ- आरजू  लिए  ये कहाँ   भटक  आये  हैं.?

                     तस्कीं   नहीं होती  हमें   बेसब्र  दीवाना  समझ लो ,

                     ना जाने   कहाँ  से  अरमानो  का सागर  भर लाये हैं.

                     कभी   तो   आयेगा  अच्छा  वक्त   हमारा  भी  ,

                     आँधियों में  भी  उम्मीद  की  शमा  जलाये  हुए हैं.

                     खवाब  जो भी  देखे  उनकी  ताबीर  हो  ना सकी ,

                     बनना   चाह  था  क्या  ,और क्या  बन  आये  हैं.

                      यादों  से  ,वादों  से  तो कभी  अश्कों  से  बहलाते हैं ,

                      खुद को  समझाने ,की  लाखों   तरकीबें  लड़ा  आये हैं.

                     अब    तू ही  दिखा   कोई   रास्ता  अनु  को  ऐ इलाही  ,

                      बड़ी  आरजू   लिए  तेरे  दर  पर   हम  आये   हैं.

 

 

 

 

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.