देश   की  नय्या  डोल  रही  है ,

                                            अराजकता  सर चढ़  के बोल रही है ,

                                          महंगाई  ने डाला गले में फंदा,

                                          भरष्टाचार ,काला  बाजारी ,घुस खोरी ,

                                           बईमानी  फल फुल रही है।

                                          जाति -वाद,क्षेत्र वाद।भाषा वाद  का शोर

                                           है  चारो ओर ,

                                           एकता  की आवाज़ कौन सुने !

                                             बकती रहती है।

                                             कोई बात नहीं  !

                                               सब ठीक है।

                                            आतंक वाद   की दहशत गर्दी ,

                                             ह्त्या ,आगजनी ,गोली बारी, और अपहरण

                                           तो   रोज़ की बात है ,

                                             संसद  भवन  में  नेतायों  का  कुर्सियां  तोडना ,

                                          क्या नयी बात है?

                                             और कुछ  नहीं  हो रहा ,

                                           कोई   इन्कलाब  नहीं आ रहा ,

                                           मगर रोज़ नए नए  वायेदे ,तश्तरी  में  सजाकर

                                            हमें मिलते  हैं ,

                                             क्या यह कोई कम बात है!

                                            हर  सुभह  का अखबार  है  नयी सुर्ख़ियों से  भरा .

                                            नए नए  अपराधों  से है  यह सजा हुआ।

                                            इसे कहते हैं  विभिनता  में एकता .

                                          कहाँ देखोगे  दुनिया वालो !

                                          ऐसी  मिसाल तुम !

                                           वेह्शी  ,दरिदे  , भेडिये ,

                                         बलात्कारी  खुले  और बेखौफ

                                           घूमते है .

                                         जब चाहे  किसी भी  नारी को ,

                                          बहिन ,बहू ,बेटी और माँ  को  ,

                                          बनाले  अपना  निशाना .

                                         ऐसी आज़ादी और कहाँ !

                                          भले ही हो जाये  हर एक दामन तार तार ,

                                          मगर   सब ठीक है।

                                           डोल  रही है  देश की  नय्या ,

                                           मगर   डूबी तो नहीं  ना !

                                            चल  रहा  है  राम  भरोसे ,

                                            सब ठीक  है।

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.