जिस्म

जिस्म

कविता
सुनो ओ  पुरुष !                                                                                                                                                                         तुम्हें  मैं दिखाई देती हूँ  बस एक औरत . तुम्हें मात्र मुझे समझते हो एक जिस्म . मगर  इस जिस्म में एक रूह भी है , एक  जज्बातों से भरा दिल है, एक विचारशील  दिमाग है, मैं एक मात्र जिस्म नहीं , मुझमें है एक पूरा वजूद . मैं  एक इंसान हूँ, तुम्हारी तरह, बल्कि यूँ कहो ,तुमसे बढ़कर. मैं तुमसे किसी मायनो में कम नहीं हूँ. किसी बात में कम नहीं हूँ. शिक्षा -दीक्षा, कला-कौशल , खेल- राजनीति ,वाणिज्य आदि . तुम सब जानते हो. मगर मुझे पहचानते नहीं . तुम मुझे  घूरते हो बेशक , मगर देखते नहीं. शायद तुम देखना चाहते भी नहीं. क्योंकि यदि तुमने मुझे देखा , तो खुद को बहुत छोटा पायोगे. तुम नहीं समझना चाहते मुझे  इंसान .…
Read More