मैं  हूँ  नारी ,

भावनाओं से भरी ,

आँचल  में ममता और ,

आँखों में भरे आंसुओं की गगरी .

मैं एक  माँ  हूँ ,

प्रतिपल जो रहे  ,

अपनी संतान के लिए जीती .

उनकी चिंता में घुली-घुली सी ,

जब तक सुरक्षित घर ना लौट आये ,

तब तक रहती हूँ सब -कुछ भूली-भूली सी.

चाहे कुछ भी मिले संतान से , उपेक्षा /प्यार /सम्मान.

और यदि ना भी मिले कुछ ,

तो भी !

निस्वार्थ सेवा /प्रेम /ममता में सलग्न

अपने कर्तव्य  से रहती हूँ बंधी-बंधी सी.

मेरी तो बस एक ही आशा ,

और एक ही अरमां.

मेरी संतान  सफलता के शिखर  को छुए,

                                                                                                                                                         भले ही फिर शिखर  पर पहुँच कर मुझे भूल जाये .

मैं हूँ  एक पत्नी भी .

दिल में अगाध पति-प्रेम /सेवा और समर्पण लिए ,

अपने सूरज के  आस-पास धरती बन ,

चक्कर लगाती रहती है जो.

भले ही वोह अपनी प्रचंड क्रोध अग्नि से जलाये ,

सताए ,तरसाए मुझे .

मुझे तो उसी धुरी में है घूमना ,

                        जिसमें समाज की मर्यादाओं ,रीति-रिवाजों  ने मुझे बांध दिया है.

अपना अस्तित्व क्या है ?

और अपनी हैसियत क्या है ?

बस एक पत्नी और एक माँ .

मेरी आकाक्षाएं ,मेरे सपने ,मेरी चाहतें ,

सब  चार दिवारी में ही कैद .

दुःख हो या सुख ,

ख़ुशी हो या गम ,

अपने में ही  संजो के रखना है.

घर में हो चाहे कोई भी कष्ट ,

या कोई कमी ,

उसे चुपचाप सह जाना है.

कोई  अमृत दे या विष ,

उसे भी ख़ामोशी से निगल जाना है.

बस यही है अपनी दास्ताँ ,

में  एक ग्रहिणी हूँ .

मुझे अपनी उम्र यूँही गुज़रते हुए ,

तमाम हो जाना है.

डोली चढ़कर आई थी ,

और अपने पति और संतान के कन्धों पर

ही जाना है.

क्योंकि  मैं एक गृहणी हूँ !

बस यही मेरी पहचान है.

                                                                                                                                                                और यही मेरा अंजाम .

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.