भाषा मानवी व्यवहार का केंद्रीय तंतु एवं संप्रेषण का सर्वाधिक शक्तिशाली माध्यम हैं। मनुष्य चिंतन, मनन तथा अपने दैनिक व्यवहार भाषा के माध्यम से ही करता हैं । इसीलिए भाषा को समाज और संस्कृति का अभिन्न अंग माना गया हैं। बालक बिना किसी औपचारिक शिक्षा के मातृभाषा सीखता हैं। जिसे हम भाषा उपार्जन की प्रकिया कहते हैं । यह प्रकिया सहज स्वाभाविक एवं अनोपचारिक प्रकिया हैं। शिशु परिवार में सहज रूप से भाषा अर्जित करता हैं ।पर अन्य भाषा शिक्षण या भाषा अधिगम एक विशिष्ट प्रक्रिया हैं । यह परिवेश में सीखी जाने वाली विशिष्ट प्रयत्न साध्य प्रक्रिया  हैं । अन्य भाषा अध्येता के लिए मातृभाषा से अलग भाषा हैं।अध्येता अन्य भाषा के रूप में जो भाषा सीख रहा हैं । वह और उसकी मातृभाषा अगर समान स्रोत से आई हुई भाषाएँ हैं। तो उन भाषाओं में आंशिक समानताएँ  मिलती हैं । लेकिन दो भाषाएँ केवल आंशिक रूप सेही समान हो सकती हैं।पूर्णतया समान नहीं हो सकती । समान स्रोतीय भाषाओं की संरचना में समानता होने के कारण भाषा अधिगम में सुगमता होती हैं ।

हिंदी और मराठी ऎसीही दो भाषाएँ हैं । जो एक ही भाषा परिवार से मतलब आर्यभाषा परिवार से हैं। दोनों संस्कृत उद्भव भाषाएँ हैं । दोनों  की लिपि देवनागरी हैं। दोनों भाषाओं पर संस्कृत का अत्याधिक प्रभाव दिखाई देता हैं । इन सभी कारणों से दोनों भाषाभाषी एक दूसरे की भाषा में अत्याधिक समानताओं की अपेक्षा करते हैं । पर हर भाषा की अपनी  एक व्यवस्था और विशिष्टता होती हैं । इसीलिए दोनों भाषाओं में समानताओं के साथ साथ  असमानताएँ  भी दिखाई देती  हैं । यह असमानताएँ भाषा के सभी स्तर पर दिखाई देती हैं।

हिंदी भाषी अध्येता अन्य –भाषा के रूप में जब मराठी भाषा सीखता  हैं । तब उसे ध्वानिस्तर पर अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ता हैं । इसलिए अध्येता को दोनों भाषाओं में जो उचारणगत  विषमताएँ हैं । उनसे अवगत कराना पडता हैं ।इस शोधपत्र में मराठी की ऎसी ध्वनियों के बारे में जिक्र किया  गया हैं   जो ध्‍वनि हिंदी ध्वनिओं से भिन्न हैं । या रूप से समान होते हुए भी उच्‍चारण स्तर पर पर्याप्त अंतर दिखाई देता हैं । हिंदी और मराठी भाषाओं की प्रकृतिगत विशिष्टता से परिचित होने के लिए उनकी तुलना करना  आवश्यक  हैं । तुलना के आधार पर ही दो भाषाओं की व्यवस्थाओं में समानता और असमानता का निर्धारण संभव हैं । और इससे अन्य भाषा में संभावित कठिनाइयों  का पूर्वानुमान लगाया जा सकता हैं ।अन्य भाषा की ध्वनि व्यवस्था पर अधिकार पाना सही उच्चारण कर पाना ,अध्येता की विशिष्ट उपलब्धि हैं । पर इसके लिए अध्येता के सामने आनेवाली चुनौतियों का विचार आवश्यक हैं । मराठी सीखते  समय हिंदी भाषीओं को उच्चारण स्तर पर कहॉ कहॉ कठीनाइयों का सामना करना पडता हैं । इन बातो पर इस शोधपत्र में विचार किया गया हैं।

मराठी भाषा ध्वनि एवं लिपि मूलतः संस्कृत से ली गयी हैं। मराठी –हिंदी इन दोंनो भाषाओं की लिपि देवनागरी होते हुए भी दोंनो भाषाओं में ध्वनिस्तर पर पर्याप्त अंतर हैं यह अंतर केवल ध्वनिओं की संख्या में दी नहीं तो उच्चारण के स्तर पर भी हैं ।समान रूपी वर्ण का उच्चारण दोंनो भाषाओं  कही जगह अलग अलग हैं ।

(1) यह स्वर दोंनो भाषाओं में हैं । किंतू दोंनो भाषाओं इस के उच्चारण में पर्याप्त अंतर दिखाई देता हैं । हिंदी में    (र+इ) = रि ऎसा उच्चारण हैं। तो मराठी में समान रूप होने के बावजूद ऋ (र+ उ)= रु उच्चारण हैं ।

उदा .

          हिंदी                            मराठी

          ऋषि  (रिषि)                 ऋषी (रुषी )

          ऋतु    (रितु )                ऋतू  (रुतू)

          ऋण   (रिण )                ऋण (रुण)

यह नियम ऋकारघटित शब्दो के उच्चारण में भी लागू  होता हैं।

उदा .  तृषा ,कृपा ,तृप्त ,कृष्ण

2) ’, –  ऎ और औ संयुक्त स्वर दोनों भाषाओं में हैं । लेकीन दोनों भाषाओं में इन स्वरों के उच्चारण में पर्याप्त अंतर पाया जाता हैं ।

    हिंदी मूल स्वर           मराठी संयुक्त स्वर                         अन्य दो रूप

   

         ऎ                                अइ                                       अई    ,अय

उदा.  1) कैद                               –                                             कईद,कयद्याला

        2) कैलास                           –           `                                      कयलास

            3) पैसा                       पइसा                                                –

            4) बैल                          –                                          बईल ,बयलाला

            5) वैशाली                      –                                                            वयशाली

 

औ                                   अउ                                                 अऊ ,अव

उदा.  1) औरत                   अउरत                                                                              –

        2) औलाद                                                               अऊलाद ,अवलाद

        3) औकात                  –                                                         अवकात                                         4) औरस                        अउरस                                                  –

3) ‘अँ’तथा ‘आँ’ यह जो स्वर अंग्रजी से आगत शब्दो में आते हैं , परंतु मराठी और हिंदी इन दोनों भाषाओं में यह स्वर अलग अलग तरह से लिखे जाते हैं जैसे

            उदा. हिंदी                                   मराठी

                  बैंक                                       बँक

                  बैग                                        बॅग

                  बैट                                         बॅट

                  कैट                                        कॅट

ऐसे शब्‍दों के लेखन में मराठी भाषा में अर्धचंद्र का प्रयोग होता हैं तो हिंदी में द्वारा      लिखा जाता हैं  

(4) व्यंजन स्वनिम –   च,छ ,ज , झ, यह व्यंजन स्वनिम  दोंनो भाषाओं में हैं । हिंदी में इन ध्वनियों का तालव्‍य उच्चारण मिलता हैं । लेकिन मराठी में  च, वर्ग के वर्णों का उच्चारण दो तरह से होता हैं ।एक संस्कृत भाषा की तरह तालव्‍य उच्चारण ,और दूसरा दंततालव्‍य उच्चारण इन ध्वनिओं के दो तरह के उच्चारण से मराठी में  अर्थभेद होता हैं ।उदा .तालव्‍य उच्चारण    अर्थ                दंततालव्‍य उच्चारण                अर्थ

चाप  (च्याप )               धनुष                 चाप                               चिमटा

जग (ज्यग)                   दुनिया               जग                                जिंदा रह

जप ( ज्यप )                  मंत्रोच्चार              जप                                           संभलकर            जरा (ज्यरा )                  बुढापा              जरा                               बहुत कम

 

मराठी में वर्ग के तालव्‍य और दंततालव्‍य  उच्चारण के और कुछ उदाहरण-

तालव्‍य  उच्चारण –चेहरा (च्ये), छत्री (छय ) ,जन्म (ज्य),झेंडा (झ्ये )

दंततालणव्य उच्चारण — चमचा ,जहाज, झगा

5) एवं दो तरह के उच्चारण मराठी में हैं ।लेकिन  वर्तनी एक ही हैं ।

उदा. डबा डफ मंडई ,इऩ शब्दों में का उच्चारण और सडक (ड़) कडक (ड़) गडबड (ड़) इन शब्दों में का उच्चारण हिंदी की ड़की तरह हैं। लेकिन लेखन में कोई अंतर नहीं हैं। मराठी में हिंदी की तरह चंद्रबिंदु एवं नुक्ता नहीं लिखते।

6) –हिंदी की तुलना में मराठी में  मूर्ध्यन्य ध्वनियो का प्रयोग बहुतायत होता हैं । इस मूर्ध्यन्य ध्वनि में अनुनासिक हैं  यह मराठी की विशेष ध्वनि हैं । हिंदी की क्रियार्थक संज्ञाओं में जैसे ना, वाले रूप मिलते हैं । वहाँ मराठी में णे वाले रूप मिलते हैं ।

उदा. उठना /उठणे ,करना /करणे ,आना /येणे ,गाना /गाणे

          हींदी की तुलना में कार प्रवृत्ति मराठी  में अधिक हैं । हिंदी में  वर्ण रूप में यह ध्वनि हैं। किंतु प्रत्ययों और धातुओं में यह ध्वनि नहीं हैं । पश्चिमी हिंदी में का उच्चारण मराठी की तरह मूर्धऩ्य उच्चारण मिलता हैं। परंतु पूर्वी क्षेत्र में यह ध्वनि डॅ ,के समान उच्चरित होती हैं ।

7) हिंदी और मराठी भाषा में इस अनुनासिक  के उच्चारण में अंतर पाया जाता हैं । हिंदी में संस्कृत ,संस्था ,अंश ,संसार आदि शब्दों में स्थित अनुनासिक का उच्चारण होता हैं । लेकिन मराठी में उक्त अनुनासिक का उच्चारण अँव होता हैं ।

उदा.  हिंदी              उच्चारण                    मराठी           उच्चारण

  • संस्कार    सन् स्कार                संस्कार          सॅव् स्कार
  • संशय    सन् शय                           संशय     सॅव् शय

     3)  संसार             सन् सार                   संसार           सॅव् सार

     4) संस्था              सन् स्‍था                    संस्था          सॅव् स्‍था

     5) अंश               अन् श                      अंश           अॅव् श

     6) संस्कृत            सन् स्कृत                  संस्कृत          सॅव् स्‍कृत

(8)  ’- संस्कृत की तरह मराठी में को मुर्धन्य ध्वनियो के अंतर्गत रखा गया हैं । लेकिन मराठी में व्यंजन के संयुक्त रूप हिंदी से भिन्न हैं ।

उदां  वाऱ्यावर ( –  चिन्ह र हैं)  ऱ्हास ,चऱ्हाड ,कुऱ्हाड

र, ध्वनि के जगह पर , यह चिन्ह केवल य, तथा ,ह के संयुक्त रूप के साथ ही प्रधान    रूप से मिलता हैं।

 (9) ‘—  ध्वनि मराठी की विशेष ध्वनि हैं। आधुनिक भारतीय भाषाओं में मराठी के साथ साथ गुजराती भाषा में इस ध्वनि का प्रयोग होता हैं ।

         आधुनिक मराठी में ध्वनि का प्रयोग बहोत हैं । हिंदी में मराठी के की जगह से       काम चलता । पर मराठी में और ल, दोंनो ध्वनि से अर्थभेद होता हैं। और दोंनो ध्वनिओ में  उच्चारण स्तर पर भिन्नता हैं।

उदा .बाल /बाळ ,बोल /बोळ, कल /कळ, चाल/ चाळ, चुल / चूळ

हिंदी में मुर्धन्य   के लिए (उत्क्षिप्त) ध्वनि का प्रयोग होता हैं ।

उदा. गुळ-गुड़़

मराठी में ध्वनि से प्रारंभ होने वाले शब्द नहीं मिलते शब्दों के मध्य और अंतस्थान    में इस ध्वनि का प्रयोग होता हैं ।

10) ’-      मराठी भाषा में सकार की तुलना में शकार का प्रयोग ज्यादा मात्रा में होता हैं।

उदा.     हिंदी                 मराठी

          सिपाही           शिपाई

          सिफारस         शिफारस

          सिटी                 शिट्टी

          स्याही                शाई

          नसीब                नशीब

          सीखना               शिकणे

11) हिंदी और मराठी दोनों भाषाओं में क्ष तथ ज्ञसंयुक्त व्यंजन हैं। पर इन दोंनो भाषाओं में क्ष और ज्ञ के उच्चारण में अंतर पाया जाता हैं।

         हिंदी                                     मराठी

     क्ष= क्+ ष् +अ                                क्ष= क् + ष् +य्+अ

      ज्ञ= ग् +य्+अ+(ग्य)                      ज्ञ = द् +न् +य् +अ (दन्य)

 

    उदां. ज्ञानेश्वर ( ग्यानेश्वर )                 ज्ञानेश्वर ( द् न्यानेश्वर )

12) मराठी में पूर्ण विराम (.) इस प्रकार लिखा जाता हैं।

 

अन्य भाषा के रूप में हिंदी भाषी जब मराठी भाषा सीखता हैं। तब उस अध्येता को ध्वनिस्तर पर आनेवाली चुनोतियों का विचार इस पत्र में किया हैं। इससे हिंदी भाषी अध्येता को मराठी की ध्वनि व्यवस्था पर अधिकार प्राप्ती में सहायता हो सकती हैं। क्योकि  अन्य भाषा की ध्वनि व्यवस्था पर अधिकार पाना ,सही उच्चारण कर पाना अध्येता की विशिष्ट उपलब्धि हैं । हिंदी और मराठी भाषा की प्रकृति अलग अलग हैं । इसलिए इन दोनों भाषाओं समानता के साथ साथ असमानताएँ भी दिखाई देती हैं। भाषा शिक्षण में ये असमानताएँ बाधाएँ उत्पन्न करती हैं । इसलिए मराठी  भाषी अध्येता के सामने दोनों भाषाओं की तुलना करके उसमे ध्वनिस्तर  पर मिलने वाली असमानताओं से अध्येता  को  इस पत्र के जरिए अवगत करा रही हैं। ताकी अन्य भाषा के रूप में मराठी भाषा शिक्षण सुगम हो ।

 

 

संदर्भ –ग्रंथ सूची

1) हिंदी और मराठी की व्याकरणिक कोटियाँअंबादास देशमुख,अतुल प्रकाशन ,कानपुर  1990

2) हिंदी और मराठी की समान स्रोतीय भिन्नार्थी  शब्दावली रामानुज गिलडा ,नीरज बुक सेंटर ,दिल्ली -92

3) भारत के भाषा परिवार ,राजमल बोरा ,आलेख, दिल्ली

4) तुमचे आमचे मराठी व्याकरण ,श्रीपाद ,भागवत, विद्याभारती प्रकाशन,

5) भाषा आधिगम ,मनोरमा गुप्त ,केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा

 

 सुषमा लोखंडे         

मराठी भाषा अध्‍यापिका

म.गां.अं.हिं.वि, वर्धा

 

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.