नित्य सवेरे तुम जग जाना ,
धरती माँ को शीश नवाना ।
प्यारे बच्चों इस दुनियाँ में ,
मिल-जुलकर पहचान बनाना ।।1।।

मात-पिता की सेवा करना ,
बाधाओं से कभी न डरना ।
पढ़-लिखकर जीवन में अपनें ,
मिल-जुलकर पहचान बनाना ।।2।।

सच्चाई के पथ पर चलना ,
भेद-भाव की बात न करना ।
अपनी मंजिल तक जाकर तुम,
मिल-जुलकर पहचान बनाना ।।3।।

प्रमोद सोनवानी पुष्प

 

 

 

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.