नव भारत का निर्माण

आओ नव भारत का निर्माण करें
मन की बात जन-गण से करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

सबका अपना-अपना जिसमें हक़ होगा
न हिन्दू-मुस्लिम-सिख-ईसाई,एक राष्ट्र वो होगा
आओ सब मिलकर ये शुरुआत करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

आशा हो, विश्वास हो जिसमें
जन-जन की बात हो जिसमें
आओ सब मिलकर वो स्वर बने
आओ नव भारत का निर्माण करें

लहराये खुशियाँ, खेत-खलयानों में
चिराग जले,अंधेर-खंडहर-वीरानों में
आओ सब मिलकर वो लौ तैयार करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

रोजगार भी जहां सबको मिलेगा 
देश का हर उज्जवल भविष्य पढ़ेगा
आओ सब मिलकर वो पथ तैयार करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

बेटा-बेटी मे कोई फर्क न होगा
दोनों का एक सम अधिकार होगा
आओ सब मिलकर ये प्रण करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

सोने की चिड़िया फिर इसे बना देंगे
अपनी अमिट पहचान जग को करा देंगे
आओ सब मिलकर ये संकल्प करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

मन की बात जन-गण से करें
आओ नव भारत का निर्माण करें

गीतकार:- सोनू सहगम

sonu sahgam
Sonu Sahgam

Leave a Reply

WordPress spam blocked by CleanTalk.